मकान अनुसूची अद्यतन करने हेतु सामान्य जानकारी

खाली प्लाट



करे मकान अनुसूची , पूर्ण अद्यतन आप ।
परिवर्तन जो-जो लगे , लिखते जाना आप ।।

लिखते जाना आप ,आए कितने श्रीमान् ।
गए कई परिवार , छोड़ भाड़े का मकान ।।

कह ’वाणी’ कविराज, समझ सबको महान ।
एक-एक घर जाय, खुद देखो सब मकान ।।

http://lh3.ggpht.com/_MyiV6Tf5o5g/SgRT9ViBKlI/AAAAAAAACVU/fozqZ7K1x5A/s1600/real8.jpg
कवि :- अमृत'वाणी'