क्रमांक 19: पर्यवेक्षक के उत्तरदायित्व

पिलाओं ठण्डा पानी

पर्यवेक्षक जो भी बने, देने को निर्देष
बातें इनकी मान लो, नहीं करो तुम बेस ।।

नहीं करो तुम बेस, मानो ये महाज्ञानी
दौरा करते आय, पिलाओं ठण्डा पानी ।।

कहवाणीकविराज भूल सुधारेंगे अभी
मिलाय इनसे हाथ, मिलजुल के चलना सभी ।।


भावार्थः- हे प्रगणक महानुभावों आपके लिये जो भी पर्यवेक्षक नियुक्त किये गये है वे आपको भलीभांति दिषा-निर्देष देने के लिए ही है। आप उनकी बाते ध्यान पूर्वक सुनते हुए समझने की कोषिष करे। अनावष्यक किसी प्रकार की बहस नही करें।
वाणीकविराज कहना चाहते है कि यह सोचकर ही उनकी बाते सुनते जाओं कि ये जनगणना कार्य के निर्विवादित महापंडित है। अभी यह अपने क्षैत्र विषेष का दौरा करते हुए आए है। इन्हे प्रेमपूर्वक ठण्डा पानी पिलाओं और अपनी कोई समस्या हो तो इनके सामने प्रस्तुत करोे। ये महानुभाव उसका निराकरण करेगे। वैचारिक तालमेल बनाकर अर्थात हाथ से हाथ मिलाकर इनके साथ चलते हुए जनगणना कार्य को पूर्ण सफल बनावे।

http://4.bp.blogspot.com/_q1A9TFeJdsw/S-6qQ2cEjWI/AAAAAAAAC3Y/9daenf_xjF8/s400/0210466855085.jpg

कवि :-अमृत'वाणी'